Friday , December 14 2018
कुकुर तिहार

देखें फोटोज: अगर आपको है कुत्तों से प्यार, तो मनाइए नेपाल का कुकुर तिहार

हम सभी को त्यौहार और उसकी धूम बहुत पसंद होती है और आजकल तो दिवाली की रवानगी छाई हुई है. वैसे हम कभी सोचते हैं कि हम तो मज़े से अपने त्यौहार मना लेते हैं लेकिन उन बेजुबान जानवरों के लिए भी कोई ऐसा त्यौहार हो, जिसमें उनको महत्वता मिले और वह भी मज़े से एन्जॉय कर सके. अगर आपको सच में जानवरों से प्यार है खासकर कुत्तों से प्यार है, तो आप उनको अच्छा महसूस कराने के लिए उनकी पूजा करके उनका भी त्यौहार मन सकते हैं. ऐसा करने का अवसर आपको नेपाल दे रहा है.

आप सोच में पड़ गए न कि मै क्या बात कर रही हूँ, तो बता दूँ कि मैं नेपाल में मनाये जाने वाले कुकुर तिहार त्यौहार की बात कर रही हूँ, जो कुत्तों की पूजा करके उन्हें समर्पित किया जाता है.

कुकुर तिहार कैसे मनाते हैं

यह 5 दिनों तक मनाये जाने वाले दिवाली त्यौहार के दूसरे दिन मनाया जाता है. इस दिन कुत्तों के साथ बहुत अच्छा व्यवहार किया जाता है और उन्हें बहुत प्यार भी दिया जाता है. ऐसा करने से उनके चेहरों पर जो ख़ुशी होती है, वह देखने वाली होती है. हिंदू धर्म के लोग मनुष्य और कुत्तों के बीच एक स्पेशल संबंध बनाने के लिए उनकी पूजा करते हैं.

 

 कुकुर तिहार

फोटो सोर्स: स्कूप हूप

और क्या-क्या करते हैं

इस त्यौहार में कुत्ते चाहे सड़क पर रहने वाले हो या पालतू हों सभी की पूजा की जाती है. उनके माथे पर लाल टीका लगाकर उन्हें माला पहनाकर सम्मान दिया जाता है. हम सभी को पता है कि लाला टीका का निशान भक्ति का प्रतीक माना जाता है. इस दिन कुत्तों को उनकी पसंदीदा खाने की चीज़े जैसे दूध, अंडा, मीट और अच्छे-अच्छे डॉग फूड्स और बहुत कुछ खाने को दिया जाता है.

 

 कुकुर तिहार

फोटो सोर्स: स्कूप हूप

इस त्यौहार को मानाने का कारण

वैसे आप इसके पीछे का कारण जानना चाह रहे होंगे, तो हम आपको बता दें कि हिंदू पौराणिक कथाओं से इसका संबंध है. आपको बता दें कि भैरव को भगवान शिव का अवतार माना जाता है, जो कुत्ते की सवारी करते थे, जिसे स्वान भी कहा जाता है.

 

 कुकुर तिहार

फोटो सोर्स: स्कूप हूप

एक और बात इसको लेकर यह है कि यमराज या मृत्यु के देवता के पास दो रखवाले कुत्ते रहते हैं, जो नरक के द्वार की रखवाली करते हैं. इस प्रकार इस त्यौहार का दिन नरक चतुर्थी के रूप में मनाया जाता है.

 

 

 कुकुर तिहार

फोटो सोर्स: स्कूप हूप

यह माना जाता है कि कुत्तों को किसी प्रकार का खतरा हो यहाँ तक की मृत्यु की खबर का पता पहले ही चल जाता है और इसलिए हमारी रक्षा करने के लिए उनकी पूजा की जाती है.

 

 कुकुर तिहार

फोटो सोर्स: स्कूप हूप

अब यह सब देखकर आप सोच रहे होंगे कि काश हम नेपाल में होते और इस त्यौहार का हिस्सा बना होते. वैसे इन कुत्तों से अच्छा और सच्चा हमारा कोई दोस्त नहीं होता है, जो पूरी वफ़ादारी से हमारा साथ निभाता है.

 कुकुर तिहार

फोटो सोर्स: स्कूप हूप

देखो कितने प्यार से इस प्यारे से कुत्ते पर फूल चढ़ा रहे हैं

 कुकुर तिहार

फोटो सोर्स: स्कूप हूप

प्यार से हाथ फेरते हुए

 कुकुर तिहार

फोटो सोर्स: स्कूप हूप

बिस्किट और अंडा का भोग लगाते हुए

 

 कुकुर तिहार

फोटो सोर्स: स्कूप हूप

देखो न कितना अद्भुत नज़ारा है इनकी दोस्ती की

 कुकुर तिहार

फोटो सोर्स: स्कूप हूप

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *