Monday , September 16 2019

अब बिहार की ट्रेनों में मिलेगा बाटी-चोखा और दही-चूड़ा, वेटर कहेंगे ‘गुड मॉर्निंग-हेलो हाय’

ट्रेन के यात्रियों को हमेशा शिकायत रहती है कि उन्हें सफर में घर जैसा खाना नहीं मिलता है। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन (IRCTC)  ने यात्रियों की इस समस्या का समाधान निकाल लिया है। अब बिहार से चलने वाली हर ट्रेन में बिहार के ठेठ देसी पकवान उपलब्ध होंगे और पकवान भी ऐसे-वैसे नहीं, बल्कि दही-चूड़ा और मशहूर बाटी-चोखा।

तो अब अगर आप बिहार से चलने वाली किसी ट्रेन में बैठें और घर के खाने की याद सताये, तो बिहार के खास व्यंजनों का मज़ा उठा सकते हैं। IRCTC  ने यहां से खुलने वाली लंबी दूरी की तमाम ट्रेनों में स्थानीय स्तर पर लोकप्रिय खाना और नाश्ता मुहैया कराने का प्लान बनाया है।

इतना ही नहीं अब ट्रेनों में मौजूद पेंट्री कार के वेटर भी ‘गुड मॉर्निंग’ और ‘हेलो-हाय’ कहकर आपका स्वागत करेंगे।

रेलवे के मुताबिक IRCTC ने बिहार से खुलने वाली सभी ट्रेनों में सुबह के नाश्ते में चूड़ा-दही और खाने में लिट्टी-चोखा और मांसाहारी खानों में देहाती चिकन भी उपलब्ध कराया जाएगा।

IRCTC के क्षेत्रीय प्रबंधक राजेश कुमार का कहना है कि बिहार के व्यंजनों की ब्रांडिंग करने के लिए ट्रेनों में यहां के मशहूर व्यंजनों को शामिल किया जा रहा है। IRCTC ने पटना ऑफिस को जो लिस्ट भेजी है, उसमें ये जिम्मेदारी होटल प्रबंधन संस्थान (IHM) को दी गई है, जोकि व्यंजनों को खास तरीके से यात्रियों को परोसने को लेकर स्टडी कर रहा है।

लिट्टी चोखा की अलावा परोसी जाएंगी ये डिश

बिहार के दरभंगा, मुजफ्फरपुर सहित कई स्टेशनों से खुलने वाली ट्रेनों में यात्री के लिए चूड़ा-दही और लिट्टी-चोखा के अलावा घुघनी का भी स्वाद चख सकेंगे।

यही नहीं यात्री लिट्टी के साथ देहाती चिकेन, दालपूड़ी के साथ सब्जी, चूड़ा और मूंग घुघनी, सत्तू पराठा के साथ दही और अचार का भी लुत्फ उठा सकेंगे। इसके अलावा शनिवार को खिचड़ी के साथ दही और पापड़ का परोसा जाएगा।

पेंट्रीकार के वेटर बोलेंगे गुडमॉर्निग और हेलो-हाय

इन ट्रेनों में यात्रियों को न सिर्फ बेहतर खानपान और सुविधा मिलेगी, बल्कि ट्रेन के वेटर और वेंडर भी यात्रियों को गुडमॉर्निग और हैल्लो हाय बोल कर स्वागत करेंगे, जिसके लिए उन्हे प्रशिक्षित भी किया जा रहा है।

पेंट्रीकार के वेंडरों और वेटरों की अक्सर यात्रियों के साथ झगड़ा होने की शिकायत मिलती रहती थी। यात्रियों की इन शिकायतों को दूर करने के लिए अब वेंडरों और वेटरों को प्रशिक्षित किया जाएगा।

दानापुर की एक संस्था इन वेटरों को ट्रेनिंग देगी और फिर इन्हें IRCTC की तरफ से संचालित पेंट्रीकारों में तैनात किया जाएगा। इससे ट्रेनों में यात्रियों को न केवल बेहतर माहौल मिल सकेगा, बल्कि यात्री यात्रा का भरपूर मजा भी उठा सकेंगे।

आपको बता दें कि दक्षिण भारत से संचालित होने वाली ट्रेनों में इडली, डोसा, सांभर और पश्चिम भारत से चलने वाली ट्रेनों में भेलपूरी, वड़ापाव जैसी स्थानीय व्यंजन पहले से ही को परोसे जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *