Monday , September 16 2019

लगा प्रदूषण का दाग, तो फिलीपींस के लोगों ने की ये अनोखी शुरूआत

प्रशांत महासागर में द्वीपों से बना का देश फिलीपींस, जिसकी खूबसूरती पर प्रदूषण का दाग लगा, तो वहां के लोगों ने उसे मिटाने की मुहिम शुरू कर दी।

दरअसल, समुद्र में सबसे ज्यादा कचड़ा फैलाने वाले देशों की फेहरिस्त में फिलीपींस तीसरे नंबर पर है, जिसका सबसे बड़ा कारण मनीला बे यानी मनीला की खाड़ी था। जो कचड़े के ढेर में इस कदर दफन गई थी कि मनीला का तट दिखना ही बंद हो गया था। लेकिन फिलीपींस के लोगों ने महज कुछ महीनों में वो अजूबा कर दिखाया, जो समूची दुनिया के लिए मिसाल बन गया।

मनीला की खाड़ी में सफाई की शुरुआत 27 जनवरी 2019 से शुरू हुई और अब तक करीब पांच हजार लोगों ने खाड़ी में उतरकर 45 टन कचरा निकाला।

जाहिर है पर्यावरण संरक्षण की संजीदगी को देखते हुए यह एक बड़े अभियान की शुरुआत थी। लेकिन इस अभियान की नींव करीब दो महीने पहले ही रखी जा चुकी थी।

दिसंबर 2018 में अमरीका की एक कंपनी बाउंटीज नेटवर्क ने स्थानीय मछुआरों की मदद से मनीला की खाड़ी से 3 टन कचरा निकाला था। दिलचस्पबात ये है कि कंपनी ने इस काम का मेहनताना मछुआरों को डिजिटल करेंसी के जरिए दिया गया था।

फिलीपींस के ज्यादातर मछुआरे बैंकिंग सिस्टम से अछूते थे। ऐसे में क्रिप्टोकरेंसी से भुगतान उनके लिए एकदम नई बात थी।

इस मुहिम को एक कदम और आगे बढ़ाते हुए कनाडा की कंपनी प्लास्टिक बैंक ने भी मनीला की खाड़ी जैसा एक प्रोजेक्ट फिलीपींस के ही नागा शहर में आजमाया।

कंपनी ने यहां प्लास्टिक का कचरा जमा करने का एक केंद्र बनाया और लोगों को वहां कचरा जमा करने के बदले में डिजिटल करेंसी देने का ऑफर दिया। आखिरकार ये अभियान भी सफल हुआ।

कंपनी के मालिक शॉन फ्रैंकसन का कहना है कि जल्द ही वो मनीला की खाड़ी के आस-पास तीन ऐसे प्लास्टिक कलेक्शन सेंटर खोलने वाले हैं।

जाहिर है कचरा साफ करने के बदले में डिजिटल करेंसी से भुगतान, प्रदूषण से लड़ने का सबसे नया विकल्प है। IBM (International Business Machines Corporation) की एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया भर में जमा होने वाला 80 फीसद प्लास्टिक का कचरा विकासशील देशों के गरीब समुदायों से आता है और इस प्रदूषण का सबसे ज्यादा शिकार भी वही गरीब होता है। ऐसे में कचरे की समस्या से निपटने के साथ-साथ डिजिटल करेंसी उन्हें सशक्त भी बनाएगी।

ऐसे पायलट प्रोजेक्ट से हो रहे छोटे-छोटे बदलाव भविष्य में प्रदूषण से निपटने के लिए कारगर साबित होंगे। कंपनियों द्वारा लोगों को डिजिटल करेंसी से जोड़ने का एक फायदा तो यही हुआ कि इस अभियान की शुरुआत मनीला की खाड़ी जैसी प्रदूषित जगह को साफ करने से हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *